दोहा


जय गणेश गिरीजासुवन। मंगल मूल सुजान।

कहत